Old school Easter eggs.

योग क्या है ?




‘योग’ शब्द ‘युज समाधौ’ आत्मनेपदी दिवादिगणीय धातु में ‘घञ्’ प्रत्यय लगाने से निष्पन्न है। इस प्रकार ‘योग’ शब्द का अर्थ हुआ- समाधि अर्थात् चित्त वृत्तियों का निरोध । योग में हम दिखायेँ कि आत्मा और परमात्मा के विषय में योग कहा गया है।


* पतंजली ( योग दर्शन ) के अनुसार :
योगश्चित्तवृत्त निरोध : (1/2) अर्थात् चित्त की वृत्तियों का निरोध ही योग है।
* सांख्य दर्शन के अनुसार :
पुरुषप्रकृत्योर्वियोगेपि योगइत्यमिधीयते। अर्थात् पुरुष एवं प्रकृति के पार्थक्य को स्थापित कर पुरुष का स्व स्वरूप में अवस्थित होना ही योग है।
* विष्णुपुराण के अनुसार :
"योग" संयोग इत्युक्तः जीवात्म परमात्मने। अर्थात् जीवात्मा तथा परमात्मा का पूर्णतया मिलन ही योग है।
* भगवद्गीताके अनुसार :
सिद्दध्यसिद्दध्यो समोभूत्वा समत्वंयोग उच्चते । (2/48) अर्थात् दुःख-सुख, लाभ-हानी , शत्रु-मित्र, शीत और उष्ण आदि द्वन्दों में सर्वत्र समभाव रखना योग है।
* भगवद्गीता के अनुसार :
तस्माद्दयोगाययुज्यस्व योगः कर्मसु कौशलम् । अर्थात् कर्त्तव्य कर्म बन्धक न हो, इसलिए निष्काम भावना से अनुप्रेरित होकर कर्त्तव्य करने का कौशल योग है।
* आचार्य हरि भद्र के अनुसार :
मोक्खेण जोयणाओ सव्वो वि धम्म ववहारो जोगो । मोक्ष से जोड़ने वाले सभी व्यवहार योग है।
* बौद्ध धर्म के अनुसार :
कुशल चितैकग्गता योग । अर्थात् कुशल चित्त की एकाग्रता योग है।

योग के आठ ।अंग है - :

(1.)यम

(2.) नियम

(3.) आसन

(4.) प्राणायाम

(5.) प्रत्याहार

(6.) धारण

(7.) ध्यान

(8.) समाधि

twitter
fb
gplus
Online : 1 | Today Visitors : 1 | Total Visitors :331
यंत्र विवरण :
आई॰ पी॰ पता : 54.80.247.119
ब्राउज़र छवि : Unknown
ऑपरेटिँग सिस्टम विवरण : CCBot/2.0 (http://commoncrawl.org/faq/)
आपका देश : United States
समय तथा तिथि : 2018-06-25 11:21:03
फिडबैक उपयोग की शर्तेँ
© 2018 spiritual